81 / 100

ईटन-कोलारी पुल का निर्माण कब पूरा होगा?

विरली (बौद्ध): भंडारा और चंद्रपुर दो जिलों को जोड़ने वाले वैनगंगा पर ईटन-कोलारी पुल का निर्माण पिछले छह वर्षों से कछुआ गति से चल रहा है। इलाके के लोगों ने सवाल उठाया है कि इस पुल का निर्माण कब पूरा होगा।

इस पुल के लिए केंद्रीय सड़क निधि से 137 करोड़ 37 लाख रुपये की राशि की प्रशासनिक स्वीकृति 19 जुलाई 2018 को दी गयी थी। पुल का सर्वेक्षण कार्य 2018 में शुरू हुआ और पुल का वास्तविक निर्माण उसी वर्ष दो महीने बाद शुरू हुआ। अनुमान लगाया गया था कि इस सड़क और पुल का काम लगभग दो साल में पूरा हो जाएगा, हालांकि पुल के निर्माण में 6 साल भी नहीं बीते हैं।

पुल का निर्माण कच्छप गति से चल रहा है, ज्यादा प्रगति नहीं हुई है। पिछले साल लोक निर्माण विभाग की ओर से कहा गया था कि इस पुल का काम मार्च 2024 तक पूरा हो जाएगा, हालांकि जनवरी 2024 बीत जाने के बाद भी इस पुल का काम पूरा नहीं हो पाया है।

46 वर्ष पूर्व किताड़ी से विरली तक जिला सड़क निर्माण के दौरान इस पुल के निर्माण के लिए सर्वे कराया गया था, कुछ कारणों से इस पुल को बनाने का प्रस्ताव समय के साथ छोड़ दिया गया। हालांकि, भंडारा-चंद्रपुर जिले में कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने पुलों का निर्माण शुरू कर दिया है।

“सेतु निर्माण एक्शन कमेटी के” संघर्ष किया और “एतान-कोलारी के बीच एक पुल के निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया” गया है। हालांकि, 2018 में शुरू हुआ इस पुल का काम अब तक पूरा नहीं हो सका है, इसलिए सरकार को भंडारा जिले से चंद्रपुर जिले तक यातायात ले जाने के इस काम को तेजी से पूरा करना चाहिए।

-उद्धव कोरे, संयोजक, पुल निर्माण कार्य समिति

ईटन-कोलारी पुल निर्माण के कारण भंडारा और चंद्रपुर जिलों के बीच संचार सुविधाजनक होगा। इसके अलावा ईटन, विरली (खुर्द) और विरली (बु.) के छोटे गांवों को विशेष महत्व मिलेगा और यहां उद्योगों और रोजगार सृजन को बढ़ावा मिलेगा। लेकिन पुल के पूरा होने में देरी होने के कारण इस मार्ग का इंतजार किया जा रहा है।

– सीमा पारधी, सरपंच, विरली (खुर्द)

ईटन-कोलारी ब्रिज के निर्माण से शिक्षा, स्वास्थ्य और अन्य मामलों के लिए चंद्रपुर जिले विशेषकर ब्रम्हपुरी तक पहुंच आसान हो जाएगी। हालांकि इस पुल के निर्माण में देरी के कारण शिक्षा, स्वास्थ्य जैसी सुविधाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

इसे पाने के लिए आपको बहुत लंबा सफर तय करना होगा। इसलिए इस पुल का काम जल्द पूरा किया जाए।

– विलास चाचेरे, उपसरपंच, ईटन

समय की बचत होगी तथा दोनों जिलों के बीच संचार सुविधाजनक होगा। पुल के निर्माण के फलस्वरूप जिले में समिति की स्थापना की गयी है। “चंद्रपुर- भंडारा तक”

Also Read : बल्लारपुर शहर में सिलेंडर विस्फोट

ईटन-कोलारी पुल: मराठी में पढे,

ईटन-कोलारी पुलाचे बांधकाम कधी पूर्ण होणार?

विरली (बुद्ध) : भंडारा व चंद्रपूर या दोन जिल्ह्यांना जोडणाऱ्या वैनगंगेवरील ईटन-कोलारी पुलाचे काम गेल्या सहा वर्षांपासून गोगलगायीच्या गतीने सुरू आहे. या पुलाचे बांधकाम कधी पूर्ण होणार, असा प्रश्न परिसरातील नागरिकांनी उपस्थित केला आहे.

या पुलासाठी केंद्रीय मार्ग निधीतून 137 कोटी 37 लाख रुपयांची प्रशासकीय मान्यता 19 जुलै 2018 रोजी देण्यात आली. 2018 मध्ये पुलाच्या सर्वेक्षणाचे काम सुरू झाले आणि त्याच वर्षी दोन महिन्यांनंतर पुलाचे प्रत्यक्ष बांधकाम सुरू झाले. या रस्त्याचे व पुलाचे काम सुमारे दोन वर्षांत पूर्ण होईल, असा अंदाज व्यक्त केला जात होता, मात्र पुलाच्या बांधकामाला 6 वर्षेही उलटली नाहीत.

पुलाचे बांधकाम गोगलगायीच्या गतीने सुरू आहे, फारशी प्रगती झालेली नाही. गेल्या वर्षी सार्वजनिक बांधकाम विभागाने या पुलाचे काम मार्च २०२४ पर्यंत पूर्ण होईल, असे सांगितले होते, मात्र जानेवारी २०२४ नंतरही या पुलाचे काम पूर्ण झालेले नाही.

46 वर्षांपूर्वी किटारी ते विर्ली या जिल्हा मार्गाचे बांधकाम सुरू असताना या पुलाच्या बांधकामासाठी सर्वेक्षण करण्यात आले होते, काही कारणांमुळे हा पूल बांधण्याचा प्रस्ताव वेळोवेळी रखडला होता. मात्र, भंडारा-चंद्रपूर जिल्ह्यात काही सामाजिक कार्यकर्त्यांनी पुलांचे बांधकाम सुरू केले आहे.

‘पूल बांधकाम कृती समिती’ने संघर्ष करून ‘इथान-कोलारी’ दरम्यान पूल बांधण्याचा मार्ग मोकळा केला आहे. मात्र, 2018 मध्ये सुरू झालेल्या या पुलाचे काम अद्यापही पूर्ण झालेले नाही, त्यामुळे भंडारा जिल्ह्यातून चंद्रपूर जिल्ह्यात वाहतूक नेण्याचे हे काम शासनाने तातडीने पूर्ण करावे.

-उद्धव कोरे, निमंत्रक, पूल बांधकाम काम समिती

ईटन-कोलारी पुलाच्या बांधकामामुळे भंडारा व चंद्रपूर जिल्ह्यांतील दळणवळण सोयीचे होणार आहे. याशिवाय इटन, विर्ली (खुर्द) आणि विरली (बु) या छोट्या गावांना विशेष महत्त्व प्राप्त होणार असून येथे उद्योग व रोजगार निर्मितीला चालना मिळणार आहे. मात्र पुलाचे काम पूर्ण होण्यास विलंब होत असल्याने हा मार्ग प्रलंबीत आहे.

  • सीमा पारधी, सरपंच, विरली (खुर्द)

ईटन-कोलारी पुलाच्या बांधकामामुळे चंद्रपूर जिल्ह्यात विशेषतः ब्रम्हपुरी येथे शिक्षण, आरोग्य आणि इतर बाबींसाठी प्रवेश सुलभ होईल. मात्र, या पुलाच्या कामाला विलंब होत असल्याने शिक्षण, आरोग्य यासारख्या सुविधांचा लाभ मिळत नाही.

हे साध्य करण्यासाठी तुम्हाला खूप लांबचा प्रवास करावा लागेल. त्यामुळे या पुलाचे काम लवकर पूर्ण करावे.

  • विलास चाचेरे, उपसरपंच, ईटन

वेळेची बचत होऊन दोन्ही जिल्ह्यांमधील दळणवळण सोयीचे होईल. पुलाच्या बांधकामामुळे जिल्ह्यात समिती स्थापन करण्यात आली आहे. “चंद्रपूर ते भंडारा”