हाथी
78 / 100

कमलापुर के आठ हाथी 12 दिन की मेडिकल छुट्टी पर!

गढ़चिरौली: सिरोंचा जंगल

प्रदेश के एकमात्र हाथी शिविर संभाग के कमलापुर वन परिक्षेत्र मुख्यालय में अद्वितीय घटना हो रही है। इस समय, यहां काम कर रहे सभी आठ हाथियों को चॉपिंग, यानी मेडिकल कारणों से 2 फरवरी से 12 दिन की छुट्टी दी गई है। इस अवधि के दौरान, वे अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने के लिए विशेष औषधियों का सेवन करेंगे। इस छुट्टी का मकसद उन्हें उन्हाँयुक्त विभिन्न रोगों से बचाना है।*

हाथी देखणे पर्यटक नहीं आएंगे

इस समय कमलापुर जंगल में हो रहे इस घटना के चलते, प्रदेश में पर्यटकों की भी गति में कमी हो रही है। हाथियों के चॉपिंग के दौरान, यहां कुछ नई आगंतुक अपनी यात्रा को रोक रहे हैं। इससे क्षेत्र की पर्यटन गति में गिरावट हो रही है।

हाथियों को जड़ी-बूटियों से बनी औषधियाँ

ठंड के मौसम में हाथियों के पैरों में फटाकर दर्द की समस्या बढ़ जाती है। इसलिए, इन्हें चलने में तकलीफ हो सकती है। इस समस्या का समाधान करने के लिए, हर वर्ष हाथियों को इस समय के लिए चिकित्सा अवकाश प्रदान किया जाता है। इस अवकाश के दौरान, उनके पैरों को काटने वाली औषधि का भी प्रबंधन किया जा रहा है।

Also Read : स्कूल के दिनों का आभास: 1969 में गढ़चिरौली के छात्र राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री से मिले…

यह औषधि कैसे तैयार होती है?

  • यह औषधि 40-45 प्रकार की जड़ी-बूटियों से तैयार की जाती है।
  • इसमें हिरदा, बेहड़ा, सुंठ, त्रिफला, जायफल, असमानतारा, और अन्य वन्यजीवों के पौधों का उपयोग होता है।
  • इन पौधों को एक ड्रम में उबाला जाता है ताकि इससे एक चॉपिंग की कोटिंग तैयार हो सके।

हाथियों का चॉपिंग प्रक्रिया

इस चॉपिंग की औषधि का लेप महावत, चरकतार, सुबह-सुबह हाथियों के पैरों में भून दिया जाता है। इस प्रक्रिया में, हाथियों का रक्त परीक्षण भी होता है ताकि उनके स्वास्थ्य की निगरानी रखी जा सके।

समाप्ति

इस अवकाश के दौरान, हाथियों की देखभाल में खास ध्यान रखा जा रहा है ताकि वे अगले कामकाजी दिनों में स्वस्थ रह सकें। इस तरह के कदमों से, कमलापुर वन संरक्षण क्षेत्र के तंतु संरक्षण में भी सहायता मिल रही है और हाथियों की चिकित्सा सेवाओं में भी सुधार हो रहा है।

मराठी में पढे :

कमलापूरचे आठ हत्ती १२ दिवसांच्या वैद्यकीय रजेवर!

गडचिरोली: सिरोंचा जंगल

राज्यातील एकमेव हत्ती छावणी विभागाच्या कमलापूर वनपरिक्षेत्र मुख्यालयात एक अनोखी घटना घडली आहे. सध्या येथे काम करणाऱ्या आठही हत्तींना 2 फेब्रुवारीपासून 12 दिवसांची सुटी देण्यात आली आहे, म्हणजे वैद्यकीय कारणांमुळे. या काळात ते त्यांच्या आरोग्याची काळजी घेण्यासाठी विशेष औषधे घेतील. या सुट्टीचा उद्देश त्यांच्याशी संबंधित विविध रोगांपासून त्यांचे संरक्षण करणे हा आहे.*

पर्यटक येणार नाहीत

सध्या कमलापूरच्या जंगलात घडणाऱ्या या घटनेमुळे राज्यातील पर्यटकांचा वेगही कमी होत आहे. हत्ती कापण्याच्या वेळी काही नवीन पाहुणे येथे आपला प्रवास थांबवत आहेत. त्यामुळे या भागातील पर्यटनाचा वेग कमी होत आहे.

औषधे वनौषधींपासून बनवली जातात

थंडीच्या काळात हत्तींना पाय फुटणे आणि दुखणे ही समस्या वाढते. त्यामुळे त्यांना चालताना त्रास होऊ शकतो. या समस्येचे निराकरण करण्यासाठी, दरवर्षी या काळात हत्तींना वैद्यकीय रजा दिली जाते. या ब्रेक दरम्यान, त्याचे पाय कापलेल्या औषधांनी देखील व्यवस्थापित केले जात आहेत.

हे औषध कसे तयार केले जाते?

  • हे औषध ४०-४५ प्रकारच्या औषधी वनस्पतींपासून तयार केले जाते.
  • *यामध्ये हिरडा, बेहडा, सुंठ, त्रिफळा, जायफळ, आसमंतरा आणि इतर वन्यजीव वनस्पतींचा वापर केला जातो.
  • या झाडांना ड्रममध्ये उकळून कापण्यासाठी लेप तयार केला जातो.

हत्ती कापण्याची प्रक्रिया

या चिरण्याच्या औषधाची पेस्ट सकाळी लवकर माहूत आणि हत्तींच्या पायाला लावली जाते. या प्रक्रियेत, हत्तींची रक्त तपासणी देखील केली जाते जेणेकरून त्यांच्या आरोग्यावर लक्ष ठेवता येईल.

समाप्ती

या सुट्टी दरम्यान, पुढील कामकाजाच्या दिवसांत हत्ती निरोगी राहावेत यासाठी त्यांची विशेष काळजी घेतली जात आहे. अशा पावलांमुळे कमलापूर वन राखीव क्षेत्रातील हत्तींचे संवर्धन आणि हत्तींसाठी वैद्यकीय सेवा सुधारण्यास मदत होत आहे.