नागपुर से लाई गई शराब
80 / 100

नागपुर से लाई गई शराब कार समेत जब्त कर ली गई

*वर्धा:* नागपुर से लाई गई शराब कार समेत जब्त कर ली गई रामनगर थाना क्षेत्र में स्थानीय अपराध शाखा टीम ने एक महत्वपूर्ण कार्रवाई की है, जिसमें नागपुर से लाई गई शराब कार समेत कई चीजें जब्त की गईं। इस कार्रवाई के दौरान पुलिस ने चार आरोपियों को हिरासत में लिया है और कई लाखों रुपये कीमती सामान बरामद किया है।

नागपुर से लाई गई शराब आरोपियों की पहचान:*

– **बादल दिवाकर धावने (29):** इंदिरानगर, आर्वी नाका, वर्धा
– **शुभम अनिल दारोकर (28):** इंदिरानगर, आर्वी नाका, वर्धा
– **सूरज उर्फ ​​टोली मनोज धावड़े (26):** इंदिरानगर, आर्वी नाका, वर्धा
– **गौरव संजय जावड़े (23):** इंदिरानगर, आर्वी नाका, वर्धा

*शराब कार्रवाई के का विवरण:*

रामनगर थाना क्षेत्र में कार्रवाई करते हुए नागपुर से लाई गई शराब को जब्त कर लिया गया है। इस कार्रवाई में कार चालक समेत उसके तीन साथियों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया और 8 लाख 49 हजार 400 रुपये का कीमती सामान जब्त कर लिया।

आरोपियों की पहचान बादल दिवाकर धावने (29), शुभम अनिल दारोकर (28), सूरज उर्फ ​​टोली मनोज धावड़े (26), गौरव संजय जावड़े (23, सभी इंदिरानगर, आर्वी नाका, वर्धा) के रूप में हुई हैं। इंदिरानगर में रहने वाले बादल धावने अपने अन्य साथियों की मदद से एम. एच। स्थानीय अपराध जांच विभाग के कर्मचारियों को सूचना मिली कि कार क्रमांक 02 सीएच 9783 नागपुर से पवनार के रास्ते अपने निवास स्थान पर देशी और विदेशी शराब का जखीरा ला रहा है। उस सूचना के आधार पर जब पुलिस ने छापा मारा तो आरोपियों के कब्जे से 50,400 रुपये कीमत की 144 मुहरें जब्त की गईं।

*आरोपियों का बयान:

आरोपी बादल ने पूरी घटना का विवरण देते हुए बताया कि यह शराब का स्टॉक सतीश उर्फ ​​मेट गणपत हजारे (निवासी नागपुर) ने नागपुर के बार मालिक अभिषेक नयन चिंतलवार से संपर्क कर निकाला था।

*पुलिस की कड़ी कार्रवाई:*

इस मामले में पुलिस ने रामनगर थाने में मामला दर्ज किया है और आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है। इस कार्रवाई में सफलता के बाद, पुलिस ने एक अहम कदम उठाया है जिससे इस क्षेत्र में अवैध शराब बाजार को कमजोर करने में सहायक हो सकता है।

आरोपियों की गिरफ्तारी: अवैध शराब का बजाय पर्स ने उड़ाए भूलेहुए चेहरे

इस कार्रवाई में आरोपियों को पुलिस ने तीन साथियों के साथ हिरासत में लिया है, जिनमें एक कार चालक भी शामिल हैं। इन आरोपियों की पहचान बादल दिवाकर धावने, शुभम अनिल दारोकर, सूरज (टोली मनोज धावड़े) नामों से की गई है। इन आरोपियों के खिलाफ किए गए छापे में पुलिस ने 50,400 रुपये की 144 मुहरें, 72,200 रुपये की 264 मुहरबंद शिष्य, 20,000 रुपये की 200 मुहरबंद शिष्य, 18,000 रुपये की 60 मुहरबंद शिष्य, 14,400 रुपये की 148 सीलबंद शिष्य और अन्य विविध कंपनियों की शराब जब्त की है।

पुलिस की कड़ी कार्रवाई: बुरी चाल में साजगी

यहां उल्लेखनीय है कि पुलिस ने इस मामले में कड़ी कार्रवाई की है और शराब के साथ-साथ आरोपियों के पैसे और वाहन को भी जब्त किया है। आरोपियों की गिरफ्तारी के पश्चात, विशेषज्ञों ने पूरी जाँच करने का काम शुरू किया है ताकि इस पूरे अवैध धंधे की चालाकी का पता लगा सकें।

इस अवैध व्यापार से सावधान: का संदेश

इस घटना ने हमें यह सिखाया है कि अवैध शराब का धंधा समाज के लिए कितना खतरनाक हो सकता है और इस पर पुलिस की जागरूकता और कड़ी कार्रवाई बहुत आवश्यक है। यह ब्लॉग सावधानीपूर्वक शराब के धंधे से दूर रहने की अपील करता है और लोगों को इस प्रकार के अवैध कारोबारों से बचाव के लिए सतर्क रहने की सलाह देता है। use this links

एक कोयोट द्वारा पत्नी की वीभत्स हत्या