भंडाराभंडारा
71 / 100

भंडारा(Bhandara): एक साल पहले, जब किसान ने अपनी ज़मीन की मापदंडी के लिए अर्ज़ी दी थी, तब उसे भू-अभिलेख कार्यालय में 22 रुपए की रिश्वत देने की मांग की गई थी। यह घटना 29 जनवरी को पवनी में हुई थी। इस मामले में, रिश्वत निवारण विभाग के अधिकारियों ने भू-अभिलेख कार्यालय के अरविंद अंबादास सूर्यवंशी (53) और स्थानीय युवक प्रेमकुमार अशोक डुंभरे (26) को गिरफ्तार किया। पवनी पुलिस ने इन आरोपियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कराया है।

पुलिस सूत्र के अनुसार, इस घटना के संदर्भ में किसान ने अपनी ज़मीन की मापदंडी के लिए अर्ज़ी दी थी और पिछले वर्ष मार्च महीने में स्थानीय पवनी भू-अभिलेख कार्यालय के अंतर्गत हुई थी। हालांकि, आपत्तिजनक है कि भूमि सर्वेक्षण के कुछ महीनों बाद भी, उनको ‘सी’ कॉपी देने में कार्यालय कर्मचारियों ने आनाकानी की। इस दौरान, आरोप है कि किसान ने भूमि सर्वेक्षण की ‘सी’ नकल प्राप्त करने के लिए शिरस्तेदार से मिला और इस मिलान में रिश्वत की मांग की गई, जिसमें 22 हजार रुपए की मांग की गई। Also read= Lakhandur 441803 bhandra news today.

इस प्रकार के दुखद घटना के बाद, किसान ने इस मामले में भंडारा के भ्रष्टाचार निरोधक विभाग में शिकायत करी। भ्रष्टाचार निरोधक विभाग नागपुर के पुलिस अधीक्षक राहुल माकनिकर, अपर पुलिस अधीक्षक सचिन कदम और संजय पुरंदरे के मार्गदर्शन में पुलिस उपाधीक्षक डॉ. अरुण कुमार लोहार, पुलिस निरीक्षक सोनटक्के, पुलिस कांस्टेबल मिथुन चांदेवार, पुलिस नायक अतुल मेश्राम, पुलिस कांस्टेबल विवेक रणदिवे, राहुल राऊत आदि ने त्वरित क्रियाशीलता से काम किया।

इस कार्रवाई के दौरान, आरोपियों ने किसान से 22 हजार रुपए की मांग को स्वीकार करते हुए रंगे हाथ पकड़ लिए गए। दोनों आरोपी गिरफ्तार हो गए हैं और उनके खिलाफ विभिन्न धाराएं दर्ज की गई हैं। भंडारा पुलिस के भ्रष्टाचार निरोधक विभाग के तत्परता से इस मामले की और जाँच की जा रही है।”

Hand holding money clipart, finance

“Bhandara News : A year ago, when a farmer applied for land measurement, he was allegedly demanded a bribe of INR 22,000 at the Land Records Office. This incident took place on January 29th in Pavanee. In connection with this case, officials from the Anti-Corruption Department arrested Shirastedar Arvind Ambadas Suryavanshi (53) and local youth Premkumar Ashok Dumbare (26) at the Land Records Office. Pavanee police have filed a case against these accused under various sections.

Also read=नैना सूर्यवंशी और सम्यक मेश्राम का ISRO की पढ़ाई के लिए चयन…1

According to police sources, the farmer had applied for land measurement, and it was processed under the local Pavanee Land Records Office in March of the previous year. However, it is alleged that even after a few months of the land survey, the office employees were delaying providing the ‘C’ copy. During this time, the farmer allegedly met with Shirastedar personally to obtain the ‘C’ copy and was asked for a bribe of INR 22,000 in this connection.

Also read=चंद्रपुर:शहर में अपराध का ग्राफ: गणतंत्र दिवस की रात उबाथा नेता की चौंकाने वाली हत्या और ८ लोगो कि गिरफ्तारि..

After this unfortunate incident, the farmer lodged a complaint with the Anti-Corruption Department in Bhandara. The investigation is being carried out under the guidance of Police Commissioner Rahul Makanikar, Deputy Police Commissioner Sachin Kadam, and Sanjay Purandare. The department acted promptly with the supervision of Deputy Police Commissioner Dr. Arun Kumar Lohar, Police Inspector Sontakke, Police Constable Mithun Chandewar, Police Naik Atul Meshram, Police Constable Vivek Randeve, Rahul Raout, and others.

During this operation, the accused were caught red-handed accepting the demanded bribe of INR 22,000 from the farmer. Both accused have been arrested, and various charges have been filed against them. The investigation into this case is being conducted with diligence by the Anti-Corruption Department of Bhandara Police.”