ग्राहकों
77 / 100

ग्रैंड फॉरच्यून इंफ्रा डेवलपर्स: निवेशकों के साथ घोटाला का खुलासा

सैकड़ों ग्राहकों से 2 करोड़ 36 लाख की ठगी

मामला दर्ज, पांचों आरोपियों के खिलाफ मुकदमा

चंद्रपुर, महाराष्ट्र: ग्रैंड फॉरच्यून इंफ्रा एंड डेवलपर्स नामक कंपनी ने विभिन्न योजनाओं में निवेश करने का वादा करके सैकड़ों ग्राहकों को ठगा है, जिसमें से 2 करोड़ 36 लाख 60 हजार रुपये का घोटाला किया गया है। इस मामले में पांचों आरोपीयों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है और जांच आर्थिक अपराध शाखा को सौंपी गई है।

Also Read : टॉयलेट में खिड़की से महिलाओं का वीडियो बनाने वाले टीचर को लगाई गई हथकड़ी..

ग्राहकों के धोखाधड़ी की धारा में केस दर्ज:

रामनगर थाने में दर्ज हुई शिकायत के अनुसार, ग्रैंड फॉरच्यून इंफ्रा एंड डेवलपर्स कंपनी ने निवेशकों को धोखा देकर उनसे 2 करोड़ 36 लाख 60 हजार रुपये की ठगी की है। इसके बावजूद कंपनी ने अवधि समाप्त होने के बाद निवेशकों को उनकी राशि वापस करने में इनकार किया।

मुकदमा दर्ज:

शिकायत पर मामला दर्ज किया गया है, और आरोपियों के खिलाफ अप. क्रमांक 117/2022 के तहत धोखाधड़ी की धाराएं जोड़ी गई हैं। मुकदमा में तेकुला मुक्तिराज रेड्डी, भालचंद्र गणेश वडस्कर, अंजना रामय्या बेलम, मोतीलाल सरकार, और अमोल गणेश महाजन को आरोपी बताया गया है।

जांच में खुलासा:

मामले की जांच में पता चला है कि आरोपियों ने निवेशकों से 2 करोड़ 36 लाख 60 हजार रुपये की ठगी की है, और इस पर आर्थिक अपराध शाखा को जांच का कार्य सौंपा गया है।

निवेशकों से डॉक्युमेंट्स मांगे जा रहे हैं:

इस घोटाले में शिकारा बने निवेशकों से पुलिस विभाग ने उनके निवेश से संबंधित डॉक्युमेंट्स मांगने की प्रक्रिया शुरू की है। इसमें निवेश की रसीदें, आधार कार्ड, पैन कार्ड, बैंक खाता पासबुक, और योजना से कंपनी के खाते में जमा की गई राशि के बैंक विवरण शामिल हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए किया जा रहा है कि जो भी निवेशक प्रभावित हुए हैं, उन्हें उनकी राशि वापस मिले।

समाप्त विचार:

यह घटना निवेशकों को सतर्क रहने के लिए एक महत्वपूर्ण संकेत है और साथ ही साथ, ऐसे घोटालों के खिलाफ कठिन कानूनी कदमों की आवश्यकता को भी दिखाती है। लोगों को धोखाधड़ी और फ्रॉड से बचने के लिए अपने निवेशों को सावधानीपूर्वक देखभाल करना चाहिए, ताकि उन्हें किसी भी तरह की नुकसान ना हो।

मराठी में पढे :

ग्रँड फॉर्च्यून इन्फ्रा डेव्हलपर्स: गुंतवणूकदारांसोबतचा घोटाळा उघड

शेकडो ग्राहकांची २ कोटी ३६ लाखांची फसवणूक

गुन्हा दाखल, पाचही आरोपींविरुद्ध गुन्हा

चंद्रपूर, महाराष्ट्र: ग्रँड फॉर्च्युन इन्फ्रा अँड डेव्हलपर्स नावाच्या कंपनीने विविध योजनांमध्ये गुंतवणूक करण्याचे आश्वासन देऊन शेकडो गुंतवणूकदारांची फसवणूक केली असून, त्यापैकी 2 कोटी 36 लाख 60 हजार रुपयांचा घोटाळा करण्यात आला आहे. याप्रकरणी पाचही आरोपींविरुद्ध गुन्हा दाखल करण्यात आला असून, तपास आर्थिक गुन्हे शाखेकडे सोपवण्यात आला आहे.

फसवणूक कलमांतर्गत गुन्हा दाखल:

ग्रँड फॉर्च्युन इन्फ्रा अँड डेव्हलपर्स कंपनीने गुंतवणूकदारांची फसवणूक करून त्यांची 2 कोटी 36 लाख 60 हजार रुपयांची फसवणूक केल्याचे रामनगर पोलिस ठाण्यात दाखल तक्रारीत म्हटले आहे. असे असतानाही कंपनीने मुदत संपल्यानंतर गुंतवणूकदारांना त्यांचे पैसे परत करण्यास नकार दिला.

गुन्हा दाखल:

फिर्यादीवरून गुन्हा दाखल करण्यात आला असून, आरोपींविरुद्ध गुन्हा दाखल करण्यात आला आहे. अनुक्रमांक 117/2022 अंतर्गत फसवणुकीचे कलम जोडले गेले आहेत. टेकुला मुक्तिराज रेड्डी, भालचंद्र गणेश वडस्कर, अंजना रामय्या बेल्लम, मोतीलाल सरकार आणि अमोल गणेश महाजन यांची या प्रकरणात आरोपी म्हणून नावे आहेत.

तपासात समोर आले:

या प्रकरणाच्या तपासात आरोपींनी गुंतवणूकदारांची २ कोटी ३६ लाख ६० हजार रुपयांची फसवणूक केल्याचे उघड झाले असून, तपासाचे काम आर्थिक गुन्हे शाखेकडे सोपविण्यात आले आहे.

गुंतवणूकदारांकडून कागदपत्रे मागवली जात आहेत:

या घोटाळ्याला बळी पडलेल्या गुंतवणूकदारांकडून त्यांच्या गुंतवणुकीसंदर्भातील कागदपत्रे मागविण्याची प्रक्रिया पोलिस विभागाने सुरू केली आहे. यामध्ये गुंतवणुकीच्या पावत्या, आधार कार्ड, पॅन कार्ड, बँक खाते पासबुक आणि योजनेतून कंपनीच्या खात्यात जमा केलेल्या रकमेचे बँक स्टेटमेंट यांचा समावेश आहे. जो कोणी गुंतवणूकदार असेल याची खात्री करण्यासाठी हे केले जात आहे

बाधितांना त्यांचे पैसे परत मिळाले पाहिजेत.

समारोप विचार:

ही घटना गुंतवणूकदारांसाठी सतर्क राहण्याचा एक महत्त्वाचा संकेत आहे आणि त्याच वेळी अशा घोटाळ्यांविरुद्ध कठोर कायदेशीर पावले उचलण्याची गरज दर्शवते. फसवणूक आणि घोटाळे टाळण्यासाठी लोकांनी त्यांच्या गुंतवणुकीची काळजीपूर्वक काळजी घेतली पाहिजे, जेणेकरून त्यांना कोणत्याही प्रकारचे नुकसान होणार नाही.