horizontally striped flagPhoto by Studio Art Smile on <a href="https://www.pexels.com/photo/horizontally-striped-flag-3476860/" rel="nofollow">Pexels.com</a>
74 / 100

गणतंत्र दिवस 2024 (Republic Day 2024): एक अनूठे और मानव-मैत्रीपूर्ण दृष्टिकोण से हर साल, देशभर में गणतंत्र दिवस का आयोजन धूमधाम और भव्यता के साथ होता है। आज से 74 वर्ष पहले, इसी दिन 1950 में, भारत ने अपना संविधान स्वीकृत किया था, जिसे हम आज भी गर्व से महसूस करते हैं। हमारा संविधान एक पवित्र साथी है, जिसका हम सभी नागरिक गर्व से पालन करते हैं। इसे तैयार करने में B. R. Ambedkar जैसे महान नेता ने अहम भूमिका निभाई थी।

Source; President of India

भारतीय संविधान ने हमें गणतंत्र और लोकतंत्र का आदान-प्रदान किया है। गणतंत्र दिवस हर साल हमें उन मूल्यों की याद दिलाता है जिनका हमें पालन करना चाहिए, और हमें यह भी याद दिलाता है कि हम इस स्वतंत्रता के ऋणी हैं, जिसके लिए हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने अपना सर्वस्व अर्पित किया।

Republic Day 2024

गणतंत्र दिवस(Republic Day) के दिन, एक शानदार परेड का आयोजन होता है, जो नई दिल्ली के पथ में निकलता है। इस परेड में हर वर्ग की सेनाएं, पुलिस बल, नौसेना, और नागरिक समूह शामिल होते हैं। इसके साथ ही, इस विशेष दिन पर देश के प्रमुख नेताओं ने समर्पण भरा संदेश देते हैं।

इस वर्ष, गणतंत्र दिवस की परेड की चौंकाने वाली बात यह है कि मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी( Emmanuel Macron) इस उपलक्ष्य में मुख्य अतिथि हैं। इस अवसर पर, उन्हें देशवासियों का विशेष स्वागत है और हम सभी मिलकर एक सशक्त गणतंत्र की ओर बढ़ने का संकल्प लेते हैं।

Shoib Malik : सानिया से अलग, सना जावेद के साथ नई शुरुआत”

गणतंत्र दिवस(Republic Day 2024) की परेड की तैयारी एक साल पहले ही शुरू होती है और सभी प्रतिभागियों को तैयारी के लिए योजना बनाने का समय मिलता है। परेड के दिन, सभी सेना और पुलिस कर्मियों की आत्मा और शक्ति से भरी होती है।

इस वर्ष, राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों, और नौ मंत्रालयों और विभागों ने अपनी झाँकियों के माध्यम से अपने सांस्कृतिक धरोहर को प्रमोट करने का सौभाग्य प्राप्त किया है। इससे हमें दिखता है कि हमारा एकता और सामरिकता में कितनी शक्ति है, और हम

इसे बढ़ावा देने के लिए एक साथ मिलकर काम कर सकते हैं।”

Republic Day interesting facts;

  1. “गणतंत्र दिवस हर साल वह खास पल है जब हम याद करते हैं कि 26 जनवरी, 1950 को भारत ने अपना संविधान(Constitution) लागू किया और स्वतंत्रता के बाद हमारा देश एक संप्रभु गणराज्य बन गया।
  2. संविधान ने ब्रिटिश शासन के अंत का संकेत देते हुए भारतीय सरकार अधिनियम (1935) की जगह लिया और हमें स्वतंत्र गणराज्य की दिशा में आगे बढ़ने का मौका दिया।
  3. पहले गणतंत्र दिवस, 26 जनवरी 1950 को, भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने राष्ट्रीय ध्वज का समर्पण किया और उस दिन से ही इसे गणतंत्र दिवस के रूप में मनाना आरंभ किया गया।
  4. गणतंत्र दिवस का शुभारंभ 1950 में हुआ था और इस पर एक शानदार जुलूस ने मेजर ध्यानचंद स्टेडियम को रौंगत से भर दिया। उस दिन 100 से अधिक विमान और 3,000 सैन्यकर्मी ने इस परेड में भाग लिया।
  5. इस शानदार परेड में इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो ने भारत के साथ साझा किया और यह एक ऐतिहासिक अवसर था।
  6. परेड का आयोजन परंपरागत रूप से राजपथ (अब कर्त्तव्य पथ कहा जाता है) पर होता है और इसमें भारतीय गवर्नर जनरल मलिक गुलाम ने प्रमुख अतिथि की भूमिका निभाई।
  7. बीटिंग रिट्रीट समारोह, जिसमें सैनिकों की विजय की घोषणा की जाती है, हर साल 29 जनवरी को नई दिल्ली के विजय चौक पर आयोजित होता है।
  8. 2024 का गणतंत्र दिवस का थीम ‘भारत – लोकतंत्र की जननी’ और ‘विकसित भारत’ है, और इस बार की परेड में महिला सैनिकों की एक विशेष टुकड़ी होगी।
  9. इस साल के गणतंत्र दिवस में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन को भी आमंत्रित किया गया है, जो समारोह में आगे बढ़कर भारत के साथ साझा करेंगे।”