Ram Mandir
82 / 100

Ram Mandir Ayodhya 
**राम मंदिर का उद्घाटन:**
अयोध्या में Ram Mandir का उद्घाटन 22 जनवरी को होने जा रहा है, और इस साल के शुरूआती महीने में ही हम सभी एक भव्य समारोह में शामिल होंगे। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का साथ होगा। यह कार्यक्रम भारत भर में कई अन्य स्थानों पर सीधा प्रसारित होगा और भक्तों को इसमें वर्चुअल रूप से भी शामिल होने के लिए कहा गया है। अभिषेक कार्यक्रम के बाद, मंदिर 24 जनवरी से भक्तों के लिए खुला रहेगा।

प्रतिष्ठा समारोह से पहले Ram Mandir के बारे में जानने की जरूरत है

अयोध्या को हिंदुओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण तीर्थस्थलों में से एक माना जाता है। अयोध्या को भगवान राम का जन्मस्थान माना जाता है और यह पवित्र स्थान है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2000 में बाबरी मस्जिद की आधारशिला रखी और Ram Mandir के निर्माण की योजना बनाई। निर्माण कार्य में स्वदेशी तकनीक का उपयोग करते हुए राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने मंदिर की भव्यता को बढ़ावा दिया है।
अयोध्या मंदिर की निर्माण लागत का अनुमान 20022 करोड़ रुपये है और इसके लिए भक्तों का बड़ा योगदान आ रहा है। इससे पहले, अयोध्या और उसके आसपास की जमीन की दरें दस गुना तक बढ़ गई हैं और इससे शहर को एक अच्छे रूप में संस्कृति और परंपरा का दर्शन हुआ है।

**विवाद और निर्माण का सफल पथ:**

9 नवंबर, 2019 को एक विवादास्पद मुद्दा सामने आया जो एक सदी से भी अधिक समय से चला आ रहा है, जिस पर भारत के मुख्य न्यायाधीश (सी) रंजन गोगोर ने सुनवाई की। इसने मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया और निर्णय दिया कि लिटर प्रदेश में पहाड़ी शहर के लिए एक वैकल्पिक अग्नि-एकड़ भूखंड होगा।

**प्रतिष्ठा समारोह से पहले Ram Mandir के बारे में जानने की जरूरत है:**

अयोध्या राम मंदिर को हिंदुओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण तीर्थस्थलों में से एक माना जाता है। इसे भगवान राम के जन्मस्थान के रूप में माना जाता है और यह पवित्र स्थान है।

**मंदिर के निर्माण का सामग्री और स्थान:**

मंदिर की अधिरचना नक्काशीदार राजस्थान बंसी पहाड़पुर पत्थर, दुर्लभ गुलाबी संगमरमर के पत्थरों से बनाई जाएगी, जो अपनी सुंदरता और ताकत के लिए विश्व प्रसिद्ध है। मंदिर क्षेत्र लगभग 2.7 एकड़ भूमि को कवर करेगा और किसी भी समय लगभग दस लाख भक्तों की मेजबानी के लिए सुसज्जित होगा।

**मंदिर के बारे में रोचक तथ्य:**

– मंदिर का उच्चतम भव्यता और सुंदरता के लिए बंसी पहाड़पुर पत्थर का इस्तेमाल किया जा रहा है।
– राम मंदिर पूरी तरह से स्वदेशी तकनीक का उपयोग करके ब
नाया जा रहा है।
– मंदिर की अधिरचना में स्टील या ईंटों का इस्तेमाल नहीं होगा।
**मंदिर निर्माण की लागत और फंडिंग:**
– श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के भव्य राम मंदिर के निर्माण में 20022 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है।
– मंदिर निर्माण के लिए मंदिर ट्रस्ट को 60-70 लाख रुपये के बीच दान मिल रहा है।
इस नए अध्याय के आगमन के साथ ही, हम सभी को एक नया आदर्श और एक समृद्धि से भरपूर भविष्य की कड़ी में आगे बढ़ने का उत्साह है।”
Ram Mandir
अयोध्या राम मंदिर: समयरेखा

  • 1528-1529: मुगल बादशाह बाबर ने बाबरी मस्जिद का निर्माण कराया|
  • 1850 का दशक: ज़मीन पर सांप्रदायिक हिंसा की शुरुआत|
  • 1949: मस्जिद के अंदर राम की मूर्ति मिली, जिससे सांप्रदायिक तनाव बढ़ गया|
  • 1950: मूर्ति की पूजा करने की अनुमति के लिए फैजाबाद सिविल कोर्ट में दो मुकदमे दायर किए गए|
  • 1961: यूपी सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने मूर्ति हटाने की मांग की|
  • 1986: जिला न्यायालय ने हिंदू उपासकों के लिए स्थल खोला|
  • 1992: 6 दिसंबर को बाबरी मस्जिद ढहा दी गई|
  • 2010: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने विवादित क्षेत्र को सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच तीन-तरफा बांटने का आदेश दिया।
  • 2011: उच्चतम न्यायालय ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश पर रोक लगा दी|
  • 2016: सुब्रमण्यम स्वामी ने SC में याचिका दायर की, Ram Mandir के निर्माण की मांग की|
  • 2019: SC ने माना कि अयोध्या भगवान राम का जन्मस्थान है, पूरी 2.77 एकड़ विवादित भूमि ट्रस्ट को सौंप दी और सरकार को वैकल्पिक स्थल के रूप में सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया।
  • 2020: पीएम मोदी ने भूमि पूजन किया और आधारशिला रखी | using this link

विराट कोहली ने आयोध्या में राम मंदिर ‘प्राण प्रतिष्ठा..